बक्सर खबर। नगर के सिविल लाइन मुहल्ले में अवैध रुप से चल रहे क्लिनिक में गर्भवती महिला का आपरेशन हुआ। महिला नर्स जो अपने आप को डाक्टर बताती है। उसकी लापरवाही से जच्चा और बच्चा दोनों की मौत हो गई। पीडि़त परिवार के सदस्यों ने जब हंगामा किया तो तथाकथित डाक्टर पूनम राय अपना क्लिनिक छोड़ भाग गई। सूचना के अनुसार मासूम बच्चे का शव उस क्लिनिक में पड़ा है। जबकि महिला का शव सदर अस्पताल में।

सूत्रों ने बताया घटना सुबह साढ़े बजे की है। उर्मिला देवी (24) को उसके घर वालों ने पूनम के क्लिनिक में भर्ती कराया था। अपने पहले बच्चे को जन्म देने वाली थी। बच्चा जनने में परेशानी हुई तो उक्त तथाकथित चिकित्सक ने छोटा आपरेशन करने की जरुरत बताई। परिजनों ने कहा जैसा आप उचित समझे। उसने आपरेशन किया तो नस्तर से इतना गहरा जख्म हुआ कि महिला की हालत नाजुक हो गई। उसे तत्काल सदर अस्पताल ले जाया गया। जहां उसने दम तोड़ दिया।

-खाली पड़ा अस्पताल, ट्रे में पड़ा मासूम का शव

वहीं बच्चे के शरीर पर भी जख्म हो गया। इस वजह से उसकी भी मौत हो गई। वहां मौजूद परिजनों ने बताया उर्मिला का मायका राजपुर थाना के पिपराढ़ गांव है। चार वर्ष पहले उसकी शादी बक्सर से सटे उत्तर प्रदेश के उजियार में शिबू साह पुत्र किशोर गुप्ता से हुई। यह उसका पहला बच्चा था। उर्मिला के पिता चिरकूट साह भी वहां मौजूद थे। इन लोगों ने उसे पूनम के अस्पताल पहुंचाया। लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था। परिजनों की सूचना पर वहां नगर थाने की पुलिस भी पहुंची थी। लेकिन फर्जी महिला चिकित्सक व उसके सहयोगी वहां से फरार थे। इस लिए वह लौट आई।

add

पीडि़त परिवार के सदस्य भी उर्मिला का शव लेकर उजियार जा चुके हैं। बच्चे का शव अभी भी क्लिनिक में पड़ा हुआ है। यह क्लिनिक मेन रोड़ से दुर्गा सिनेमा जाने वाले रास्ते में स्थित है। इस तरह के अवैध क्लिनिक शहर में कई चल रहे हैं। जिनके हाथों मजबूर लोग ठगे जा रहे हैं। न जाने कितनों की जान भी जा रही है। जिसका ताजा उदाहरण सबके सामने है। क्योंकि यहां का अस्पताल प्रशासन इन सब बातों पर ध्यान ही नहीं देता।