नन्हें बच्चों के कौशल को देखते अभिभावक व अतिथि

बक्सर खबरः बाल दिवस के अवसर पर विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। जिसमें सोच व कौशल से राइजिंग सन इंटरनेशनल स्कूल के बच्चों ने सबको हैरत में डाल दिया। नन्हें वैज्ञानिकनों जल संरक्षण, कृषि व पर्यावरण संरक्षण के लिए छात्रों ने अनेक माडल बनाए। किस तरह हम अपना काम करते हुए पानी को बचा सकते हैं। कृषि को और लाभकारी बनाने के साथ पर्यावरण को नुकसान से बचाने के विभिन्न तरीके छात्रों ने अपनी शैली में विकसित कर दिखाए। बैज्ञानिकों ने दिखाया कौशल प्रदूषण मुक्त भारत के निर्माण की सोच को प्रदर्शनी में बच्चों ने प्रमुखता से रखा। जिसमें भूकंपरोधी शहर का नक्शा बच्चों ने पेश कर वाहवाही लूटी।

प्रदर्शनी में हाइड्रोलिक पुल, चुंबकीय गाड़ी, धुआं रहित गाड़ी जैसे कठिन उपकरणों का माडल बना सबको चैंका दिया। प्रदर्शनी का उद्घाटन डुमरांव एसडीओ प्रमोद कुमार, एसडीपीओ कमलापपि सिंह, निदेशक ब्रह्म ठाकुर ने संयुक्त रूप से फिता काट कर किया। बच्चों द्वारा बनाये गये माॅडल को देख कर एसडीओ व एडीपीओ आश्चर्य चकित रहे गए। उन्होंने कहा कि नन्हेें मुन्ने बच्चों में अपार प्रतिभा उसे निखारने प्रतिभा को निखारने के लिये ही विद्यालय प्रबंधन द्वारा इस प्रर्दशनी का आयोजन किया गया है। श्री कुमार ने कहा कि बच्चों के इस अनूठे प्रदर्शन में विद्यालय के शिक्षकों का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है। विज्ञान प्रदर्शनी के आयोजन को सराहनीय कदम बताते हुए कहा, इससे बच्चों की नैसर्गिक प्रतिभा उभरती है। इस मौके पर विद्यालय के संयोजक महेश ठाकुर, पूर्व वार्ड पार्षद धीरज कुमार, वार्ड पार्षद छोटक शर्मा, नवीन उर्फ दीपू सिंह, शिक्षक रोहित सुब्बा, संजय उध्यायाय, गौतम कुमार, विष्णु कुमार ऐलीनी, अर्चना दास, सोनी, वहीं छात्र कृष्णा तिवारी, अजीत कुमार, आयुष कुमार, आर्यन, पलक, सतीश कुमार सहित सैकड़ो अभिभावक व छात्र मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here