‌स्कूलों के लिए धारा 144 लागू
बक्सर खबर। लू का प्रभाव जानलेवा हो सकता है। चिकित्सकों के अनुसार वैसे लोगों को लू ज्यादा लगती है। जो शरीर से कमजोर हों। इसके अलावा बुजूर्ग, बच्चों को हमेशा लू लगाने का खतरा रहता है। इस लिए बच्चो और बड़ों को धूप में न जाने दें। बढ़ती गर्मी का जनजीवन पर क्या प्रभाव पड़ सकता है। यह अब किसी से छीपा नहीं है। ऐसे हालात से निपटने के लिए प्रशासन को भी तैयार रहना होगा। आज सोमवार को जिलाधिकारी राघवेन्द्र सिंह ने इसे ध्यान में रखते हुए विशेष बैठक बुलाई। मीडिया आग्रह किया कि आप भी लोगों को इससे बचने के बारे में बताएं। उन्होंने इसके बारे में विस्तार से बताया। साथ ही सभी स्कूलों के लिए धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू करने की बात कही। गर्मी के दौरान कोई स्कूल नहीं चलेगा। यह आदेश मौसम सामान्य होने तक जारी रहेंगे। प्रत्येक प्रखंड में राहत वैन तैयार रखने का निर्देश जारी किया गया।

कैसे बचें लू से :::
बक्सर खबर। जिलाधिकारी ने लू के प्रभाव से बचने के कई तरीके बताए। जैसे
धूप में निकले वक्त छाते अथवा गमछा का प्रयोग करें। सर ढक कर निकलने से लू के प्रभाव से बचा जा सकता है।
घर से पानी या कोई ठंडा पेय पदार्थ पी कर निकलें।
बहुत अधिक पसीना आने पर अचानक ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए।
खाली पेट तेज धूप में कभी न जाएं।
गर्मी के दिनों में हल्का भोजन करें। प्रोटिन युक्त खाने से बचें। जैसा अंडा इत्यादी।
लू लगने पर कच्चे आम का लेप बनाकर तलवे पर लगाया जाता है।
रोगी को तुरंत प्याज का रस शहद में मिलाकर देना चाहिए।
अगर बुखार 104 डिग्री तक पहुंच जाए तो ठंडे पानी की पट्टी सर पर रखें।