विजय मिश्रा

बक्सर खबर । देश का विकास तब संभव है जब योग्य लोगों के हाथ में उचित अधिकार दिए जाए। लेकिन मौजूदा वक्त में आरक्षण सबसे बड़ा विषय बन गया है। अगर आरक्षण से ही समाज के हर वर्ग साथ खड़ा होगा तो उसके लिए जरुरी है आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए। गरीब, कमजोर लोग हर जाति में हैं। इस लिए सिर्फ जाति के आधार पर आरक्षण नहीं दिया जाए। सरकार यह व्यवस्था करे कि आर्थिक आधार पर आरक्षण लोगों को दिया जाए। क्योंकि एक देश में एक कानून सबके लिए है तो अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग आरक्षण व्यवस्था क्यूं। इससे तो उन गरीबों का कभी भला नहीं होगा जो आर्थिक रुप से पूरी तरह पिछड़े हैं। इस देश का हर राजनीतिक दल आरक्षण के नाम पर अपना उल्लू सीधा कर रहे हैं।

उन्हें किसी के उत्थान से कोई सरोकार नहीं। सिर्फ वोट को ध्यान में रखकर राजनीति हो रही है। देश के हर बड़े नेता से हमारा प्रश्न है कि अनावश्यक मुद्दों पर बेतुके बयान देते हैं। लेकिन, देश के सबसे बड़े मुद्दे पर चुप्पी क्यों साध लेते हैं। मैं इसका विरोधी हूं कि सिर्फ जाति की वकालत हो। यह बातें अपने प्रेस बयान में युवा नेता विजय मिश्रा ने कहीं है। उन्होंने कहा है मैं देश के प्रधानमंत्री से मांग करता हूं आप पूर्ण बहुमत में हैं। विशेष सत्र बुलाकर इस दिशा में ठोस पहल करें। जिससे यह देश आपको एक निष्पक्ष नेता के रुप में याद रखे। ऐसा होगा तभी हर वर्ग के छात्र-छात्राओं को इसका लाभ मिलेगा एवं भारत विश्व पटल पर सशक्त देश के रुप में उभरेगा।

add