बक्सर खबर । आप उसे भगवान का चमत्कार कहें या बचने वाले की किश्मत। बुधवार की सुबह नौ बजे बक्सर स्टेशन पर दर्दनाक हादसा होते-होते टल गया। अपने दामाद और बेटी के साथ पटना जाने के लिए उर्मिला देवी (55) स्टेशन आई थी। इसी बीच पटना-मडुआडीह जनशताब्दी एक्सप्रेस यहां पहुंची। यात्री ट्रेन में चढ़ रहे थे। भारी शरीर की उर्मिला देवी का पैर सीढ़ी पर फिसल गया। एक झटके से वह नीचे चली गई। इतने में ट्रेन भी खुल गई। जिसने यह नजारा देखा वह चिल्लाने लगा। रोको-रोको ट्रेन रोको, चालक ने गाड़ी रोक दी। महिला को बाहर निकला गया।

उसे जगह-जगह चोटें आई थीं। तत्काल रेल पुलिस की मदद से उन्हें सदर अस्पताल भेजा गया। अस्पताल में मिले उनके बेटी व दामाद ने बतया हम लोग सिकरौल लख, थाना सिकरौल, जिला बक्सर के निवासी हैं। हम सभी उपचार के लिए पटना जा रहे थे। ट्रेन खुली भी नहीं थी, तभी उर्मिला देवी गिर पड़ी। इतने में ट्रेन भी चल पड़ी। सभी लोग अनहोनी के भय से चिख पड़े। लेकिन, किश्मत ने उनका साथ दिया। सदर अस्पताल आने पर यहां मरहम पट्टी हुई। डाक्टरों ने कहा उन्हें कुछ देर में छुट्टी मिल जाएगी।