बक्सर खबर। एक तरफ पत्नी की लाश। दूसरी तरफ दो बच्चों का शव। यह मंजर देखने के पिता जार-जार हो रो रहा था। पूरा गांव इस दुखद घटना से हतप्रभ था। किसी को समझ में नहीं आ रहा था। क्या हो गया है। ले देकर घर में बची बेटी भी अस्पताल में बेहोश। पिता राजकुमार यादव को समझ में नहीं आ रहा था क्या करे। इसकी सूचना गांव वालों ने मीडिया को दी। तब प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को सूचना दी गई। तुरंत जिला मुख्यालय से स्वास्थ्य विभाग की टीम चक्की प्रखंड के महाजीडेरा गांव पहुंची। वहां घर में तीन-तीन शव देख उनके भी होश उड़ गए।

बच्चों के पिता राजकुमार यादव ने बताया शुक्रवार को अचानक पत्नी रेखा की तबीयत खराब हुई। उल्टी, पेट दर्द की शिकायत थी। गरीब परिवार कुछ समझ नहीं पाया। रात होते-होते उसने दम तोड़ दिया। शनिवार की सुबह नौ वर्ष के इकलौते पुत्र अनंत की हालत खराब हुई। उसने भी सुबह दम तोड़ दिया। सात माह की बेटी संगीता का रो-रो कर बुरा हाल था। उसकी बड़ी बहन रेशमी को भी पेट में दर्द शुरू हो गया। हम लोग उसे लेकर ब्रह्मपुर उपचार के लिए गए। वहां जाने पर पता चला सात माह की संगीता भी दम तोड़ चुकी है। रेशमी को निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया है। परिवार वालों को शक था कि यह मौत डायरिया के कारण हुई है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जांच को पहुंचे डा. सूरज प्रकाश, पीएनटी मनोज कुमार, विदेश्वरी उपाध्याय व सुनील यादव ने जांच कर कहा डायरिया के लक्षण प्रतीत नहीं हो रहे। परिवार के अन्य सदस्यों का उपचार किया जा रहा है। वहीं रेशमी का उपचार अभी भी ब्रह्मपुर के निजी अस्पताल में चल रहा है। पूरे गांव में घटना के बाद मातम का नजारा है।

Comment