बक्सर खबर। सरकार ने किशोरियों को शिक्षित बनाने के साथ उनके स्वास्थ्य पर भी ध्यान देने की पहल शुरू की है। इसके तहत कई कार्यक्रम पूर्व से विद्यालयों में चलाए जा रहे हैं। इसे सफल बनाने की जिम्मेवारी महिला शिक्षकों दी गयी है। इसके तहत मध्य अथवा उच्च विद्यालय में कार्यकरत शिक्षिकाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री किशोरी स्वास्थ्य योजना के अंतर्गत आज बुनियादी स्कूल के प्रांगण में पहले बैच का प्रशिक्षण संपन्न हुआ। विद्यालय में आने वाली किशोरियों को माहवारी के दौरान स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर जानकारी दी जानी है। ताकि समाज के हरेक तबके की किशोरियां माहवारी से जुड़ी भ्रांतियों से दूर रहकर स्वच्छता के प्रति सचेत रह सके।

किशोरी अपने परिवार में भी स्वच्छता का अलख जगाने का कार्य कर सके। प्रशिक्षण के दौरान माहवारी के दौरान होने वाले रोगों एवं संक्रमण और उसके कुप्रभावों की भी जानकारी दी गयी तथा इससे होने वाले ख़तरों के प्रति सचेत किया गया। शिक्षिकाओं को किशोरियों में इससे होने वाले मानसिक तनाव एवं एनीमिया से बचने के तरीकों की जानकारी दी गयी। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सुषमा कुमारी ने की जबकि मास्टर ट्रेनर के रूप मे पूनम सिंह एवं उनके सहयोगी पूनम कुमारी एव सशीमा कुमारी थी। इस अवसर पर बलिहार उच्च विद्यालय की शिक्षिका मंजू कुमारी ने बताया कि मुख्यमंत्री किशोरी स्वाश्थ्य योजना को ज़िले के हर किशोरी तक पहुंचाना शिक्षिकाओं का काम हैं ताकि समाज स्वस्थ रह सके। इस अवसर पर शिक्षिका पम्मी, नीतू, रेखा,धर्मशीला, रश्मि आदि मौजूद रही।