महिला को घर में दाखिल कराने पहुंची पुलिस

बक्सर खबर : कल तक जिस पत्नी पर साहब जुल्म ढ़ा रहे थे। जब उसने अपना अधिकार दिखाया तो पती डर के मारे फरार हो गए। जाते-जाते वे अपने घर में ताला जड़ गए। कोई अंदर दाखिल नहीं हो सके। लेकिन पुलिस ने ताला तोड़ा वह अधिकार के साथ घर में दाखिल हुई। यह वाकया शनिवार को डुमरांव में हुआ। महिला को उसके घर पहुंचाने के लिए दंड़ाधिकारी व पुलिस की टीम वहां तक गई। तीन साल बाद विवाहिता को आखिरकार इंसाफ मिल गया। मामला डुमरांव थाना क्षेत्र के चौक रोड़ का है।

जहां एसडीजीएम बक्सर राजेश रंजन कुमार के आदेश के बाद पुलिस ने विवाहिता को घर का ताला तोड़कर ससुराल में प्रवेश कराया। इस दौरान डुमरांव सीओ सुमंत नाथ, थानाध्यक्ष सुबोध कुमार, महिला दरोगा नीतू कुमारी समेत दर्जनों पुलिस कर्मी मौजूद थे। थानाध्यक्ष सुबोध कुमार ने बताया कि आठ माह पूर्व चौसा निवासी भूषण लाल की बेटी विन्दू बर्मा को कोर्ट से पति सोनू वर्मा के साथ रहने का आदेश हुआ था। परन्तु जब विन्दू व उसके पिता ससुराल में पहुंची तो पति तालाबंद कर फरार हो गया था। उसके बाद से अब तक फरार है।

उस्ताद निकला पति, घर बेच हुआ फरार
बक्सर : महिला को उसके घर में दाखिल कराने पहुंची पुलिस के होश उड़ गए हैं। जिस घर में वह दाखिल हुई थी। उसका पति उसे बेचकर फरार हो गया है। कब्जे के कुछ घंटे बाद ही वहां दूसरा व्यक्ति पहुंचा। जिसने प्रशासन को बताया वह मेरा घर है। जिसे आठ माह पहले मैंने खरीदा था। अब उस जमीन पर वह नया घर बनवा रहा है। वहीं पीड़ित महिला के अनुसार दहेज के लिए घर से निकाला था। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के चौसा निवासी विन्दू वर्मा की शादी 12 मार्च 2012 को डुमरांव थाना क्षेत्र के चैक रोड़ निवासी विध्यवासिनी वर्मा के पुत्र सोनू वर्मा से हुई थी। 1 अगस्त 2014 को सोनू ने विंदू के साथ मारपीट कर घर से निकाल दिया। उसके बाद से ही वह मायके में रह रही है। कई बार पंचायती हुई पर बात नही बनी । जिसके बाद मामला कोर्ट में गया था। जहां पहली बार फैसला पति-पत्नी को साथ रखने का हुआ था। परन्तु सोनू उसी समय में घर में तालाबंदी कर फरार हो गया था। जो अबतक फरार है। न तो परिजनों को कुछ उसके बारे में पता है ना ही पड़ोसियों को।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here