बक्सर खबर। काली मंदिर में नाबालिग लड़की की शादी हो रही थी। तभी किसी ने इसकी सूचना डुमरांव पुलिस को दी। खबर मिलते ही पुलिस टीम वहां पहुंची। जिसे देखते ही घराती और बाराती मंडप छोड भाग खड़े हुए। सूचना के अनुसार मामला मंगलवार दोपहर का है। डुमरांव नगर काली पंचित मंदिर में शादी का विधि-विधान चल रहा था। जिसकी सूचना चाइल्ड़ हेल्प लाईन के सदस्य चंदन कुमार ने डुमरांव थाने को दी। पुलिस हरकत में आई और काली मंदिर पहुंची। पुलिस को देखते ही दुल्हा विजय प्रजापति (24) ग्राम अमसारी थाना मुरार भाग खड़ा हुआ। हलांकि दुल्हन के पिता भोजपुर जिले के जगदीशपुर निवासी रामधनी प्रसाद को पुलिस ने दबोच लिया।

जब लड़की के उम्र की कागजात मांगा गया तो वो हक्का-बक्का हो गए। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी की उम्र अभी 15-16 साल हुई है। उसने पुलिस ने अपनी अज्ञानता के लिए क्षमा मांगी। लिखित रुप से आवेदन दे ऐसी गलती न करने की शपथ ली। तब उसे जाने दिया गया। सूत्रों की माने तो अगर दस मिनट और बिलंब हुआ होता तो शादी हो गई होती। लड़की के पिता रामधनी के अनुसार अगर पुलिस दस मिनट देर से पहुंच तो सिंदुरदान हो गया होता। एक मुझसे अपराध हो जाता। जिससे पुलिस ने बचा लिया। यह परिवार आरा जिला के जगदीशपुर का रहने वाला है। प्रभारी थानाध्यक्ष रामाशंकर सिंह ने कहा कि जैसे ही चाइल्ड हेल्प लाइन के सदस्य ने सूचना दी। पुलिस ने मामले की गंभीरता से लेते मंदिर पहुंची और कम उम्र होने के कारण शादी रोकवा दी।