गोली , हत्या

बक्सर खबर। बगेन थाना के पकड़ही गांव में बुधवार की रात योगेन्द्र पांडेय की हत्या कर दी गई। उन्हें मारने वाला कोई और नहीं उनका छोटा भाई है। इस घटना में घायल मुकेश और सुकेश दोनों भाइयों की हाल त ठिक है। मुकेश बुधवार की रात ही अपने गांव लौट गया। उसके बयान पर कुल सात लोगों को नामजद किया गया है। उसने बताया मेरे पिता योगेन्द्र पांडेय की हत्या के पीछे मेरे दादा चन्द्रमोहन पांडेय का हाथ है। उन्हीं के इशारे पर चाचा और उनके पूरे परिवार ने मिलकर यह हत्या की।

दादा की लाइसेंसी बंदूक से चाचा ने मेरे पिता योगेन्द्र पांडेय को गोली मार दी। हम दोनों भाई भी घायल हुए। चाचा के पुत्र सोनू, दुर्गेश, अजय, विजय और चाची सुशीला देवी आदि ने मिलकर हम सभी को मारा। पुलिस ने उसके बयान पर राजेन्द्र पांडेय व उनके पिता चन्द्रमोहन पांडेय समेत सभी सात को नामजद कर दिया है। यह जानकारी डुमरांव डीएसपी के के सिंह ने बक्सर खबर को दी। उनके अनुसार दूसरे पक्ष के लोग फिलहाल फरार है। लेकिन उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
तीन बिघे जमीन का था विवाद
बक्सर खबर। पुलिस की पूछताछ में यह बात खुलकर सामने आयी है कि विवाद और हत्या की मुख्य वजह तीन बिघे जमीन है। परिवार के पास लगभग पचास बिघे जमीन है। जिसका बटवारा पूर्व में हो चुका है। उसमें से तीन बिघा जमीन योगेन्द्र और राजेन्द्र के पिता चन्द्रमोहन पांडेय ने अपनी जीविका के लिए रखी थी। वे बटवारे के वक्त बड़े पुत्र के साथ ही रहते थे। लेकिन धीरे-धीरे उस परिवार से अनबन होती चली गई। वे छोटे बेटे के साथ आ गए। अब अत्यधिक वृद्ध हो जाने के स्थिति में वह जमीन उन्होंने अपने छोटे बेटे के नाम कर दी। इसी से योगेन्द्र पांडेय नाराज हो गए थे। इसी जमीन को लेकर बुधवार की शाम विवाद शुरू हुआ। मारपीट शुरू हुई। इस बीच दबंग छवी के योगेन्द्र पांडेय ने गोली चला दी। तब दोनों ओर से गोली चली जिसमें उनकी मौत हो गई।