बक्सर खबर। भरी दोपहरी में पसहरा लख के पास आटो ने पलटी मार दी। तीनों पहिया उपर, उसमें सवार पांच लोग सड़क पर। तपती दोपहरी में शरीर का जख्म और जलती सड़क। सभी लोग मदद के लिए चिल्ला रहे थे। कोई बचाने वाला नहीं था। भरी दोपहरी में घर से गायब रहने वाले दो चार छोटे बच्चे और उनकी मंडली अपना खेल छोड़ यह नजारा देख रहे थे। तभी बाइक से सिकरौल जा रहे दीपक पांडेय वहां से गुजरे। उनकी नजर पड़ी तो सभी को बाहर निकाला। चालक अजीत कुमार चंद्रवंशी जिसे काफी चोट आई थी। उसे बाहर निकाला। अन्य यात्रियों को भी बाहर निकाला गया।

बारी-बारी से सभी को पास के निजी अस्पताल में पहुंचाया। प्राथमिक उपचार के बाद सभी को सदर अस्पताल भेजा गया। दीपक ने बताया सभी सवार चौगाई के रहने वाले थे। उन्होंने बक्सर से आटो रिक्शा किराए पर लिया था। उन्हें बड़का गांव जाना था। पूछने पर अपना परिचय नहीं बता रहे थे। हादसा हुआ कैसे। पूछने पर चालक ने बताया सामान गिरा, सामान गिरा कह के सभी चिल्लाने लगे। मैंने पीछे देखा इतने में पहिया घूम गया और आटो चारो खाने चित हो गया। गरीब चालक आटो का नुकशान देखकर रो रहा था। वहीं अन्य घायल उससे पैसा देने के लिए कह रहे थे। तुम्हारे कारण ऐसा हुआ। गांव के लोगों ने उनको डांट पिलाई तो तब जाकर चुप हुए। सभी को निजी वाहन से उपचार के लिए सदर अस्पताल भेजा गया।