बक्सर खबर। भगवान शिव की शादी महाशिवरात्रि के दिन हुई थी। इस मान्यता के अनुरुप आज भी श्रद्धालु उनके लिए रात्रि जागरण करते हैं। जगह-जगह भोले की बारात निकलती है। शास्त्रों में वर्णन है दूल्हा बनकर जब भगवान पार्वती जी की मां के सामने खडे हुए। वह बेहोश हो गई। मां पार्वती ने भगवान से प्रार्थना की। यह देख भगवान विष्णु ने भी प्रभु से कहा आज शादी है कृपा करें। भगवान विष्णु का आग्रह सुन कपूर की तरह गौर वर्ण वाले भगवान ने जब वस्त्र धारण किया तो मानो सृष्टि का सारा सौंदर्य उनके समाहित हो गया। उनके इसी रुप को सौंदर्येश्वर का नाम मिला।

उन भगवान के बारे में हम क्या लिखेंगे। इस सोमवार अर्थात 4 मार्च को महाशिवरात्रि का त्योहार जिले में मनाया गया। अगर आप झलक देखना चाहते हों तो यहां वीडियो में देख सकते हैं। यहां हम आपको इतना जरुर बता दें कि अपने शहर में खलासी मुहल्ला और कोइरपुरवा दो स्थानों से बारात निकलती है। जिसमें शहर का कोई विआइपी शामिल नहीं होता। बावजूद इसके बारात निकलती है तो किसी की क्या मजाल। वह नतमस्तक न हो जाए। जय भोले -समय होतो वीडियो जरुर खोलें-