बक्सर खबर। एक दिन पहले डुमरांव थाने में शिकायत पहुंची थी। पीडि़त पिता ने पुलिस को बताया था कि मेरी बेटी को जबरन उसके जीजा ने अपने घर में बंधक बना लिया है। शिकायत मिली तो डुमरांव पुलिस ने जांच शुरू की। मीडिया में इसकी खबर आई तो उसके जीजा तक बात पहुंची। उसने भी कुछ तथ्य सामने रखे हैं। जो यह बताते हैं कि पूरा खेल कुछ और है। लड़की अब पूरी तरह बालिग है और अपने जीजा के साथ मर्जी से रह रही है। वह घर नहीं जाना चाहती। यह मामला डुमरांव थाना के लाखनडिहरा गांव का है।

वहां के रमेश चौबे ने शिकायत की थी। मेरी बेटी को उसके जीजा सत्यम तिवारी ने अपने यहां जबरन रख लिया है। वे सिमरी थाना के आशापडऱी गांव के रहने वाले हैं। वहीं उसके जीजा के अनुसार उनका परिवार दिल्ली में रहता है। ससुराल पक्ष के लोग भी यहां रहते थे। दिल्ली में भी पुलिस से वर्ष 2016 में उन लोगों ने शिकायत की थी। तब प्रीति ने पुलिस के सामने बयान दिया था। मेरे पिता और मां मेरे साथ अच्छा बर्ताव नहीं करते। मारते पीटते हैं। मजदूरी कराते हैं। कुछ वर्ष पहले यहां दिल्ली से मुझे गांव ले गए। वहां किसी के हाथ बेचना चाहते थे। मुझे जब पता चला तो मैं ट्रेन से दिल्ली भाग आई। यहां न्यू दिल्ली के दीपक बिहार कालोनी में दीदी अनु और जीजा सत्यम के साथ रहती हूं। मैं अपनी मर्जी से शादी करुंगी।
-पूरी कहानी जानने के लिए पढ़े -जीजा ने जमाया साली पर कब्जा