बक्सर खबर: वासन्तिक नवरात्र 18 से 25 मार्च है। इस बार 8 ही दिन का नवरात्र है। अनुदया नवमी मे हवनादि कार्य होंगे। प्रतिपदा तिथि 18 को शाम 6: 8 बजे तक है। कलश स्थापना प्रतिपदा तिथि मे ही करना उत्तम होता है।अभिजित् मुहूर्त मध्याह्न 11:36 बजे से 12:24 बजे तक है। इसमे विशेष अनुष्ठान सिद्धि के लिए कलश स्थापना करना सर्वोत्तम होता है।
चैती छठ व्रत 23 मार्च शुक्रवार को मनाई जायेगी। जबकि महानिशा पूजा  अष्टमी ,नवमी पूजन 24 मार्च को मध्य रात्रि मे होगी।  पूजन का चुन्दरी 7:04 बजे के बाद नवमी तिथि मे ही उठेगा। विदित हो की महाष्टमी का व्रत 25 को ही करना श्रेयष्कर होगा। नवमी का हवन भी इसी दिन होगा। नवमी तिथि का भोगकाल 7:04 प्रात:काल से से शेषरात्रि 4:39 तक है। यह जानकारी पंडित नरोत्तम द्विवेदी ने दी।

हेरिटेज विज्ञापन