बक्सर खबर। न्यायालय में गवाही देने के लिए महिला अपने घर से निकली थी। ट्रेन द्वारा डुमरांव स्टेशन पहुंची। उस वक्त सुबह के साढ़े आठ बज रहे थे। महिला वहां से कचहरी के लिए चली तभी तीन लोगों ने उसका अपहरण कर लिया। यह सूचना अपहृत महिला के पुत्र अजीत कुमार ने डुमरांव थाने को दी। खबर मिलते ही पुलिस बेचैन हो गई। सुबह ही सुबह कहां से मुसीबत आई।

लेकिन, शिकायत करने वाले ने बताया उनका अपहरण तीन लोगों ने मिलकर किया है। जिनमें नाम बीडीओ चौधरी, सत्येन्द्र चौधरी व चंदन चौधरी है। सभी सोनवर्षा ओपी के कड़सर के रहने वाले हैं। सूचना मिलते ही डुमरांव पुलिस कड़सर पहुंची और तीनों को दबोच लिया। लेकिन पुलिस को वहीं शक हुआ। अपहरण करने वाले अपने घर पर क्यूं हैं। पुन: डुमरांव पहुंची और तीनों को पूछताछ के लिए थाने में बैठा दिया गया।

add

वहीं अजीत से भी पूछताछ हुई। जिसमें उसने बताया मेरी मां गवाही देने डुमरांव कोर्ट जा रही थी। हमारे पिता विनोद चौधरी मुंबई में रहते हैं। उन्होंने फोन से बताया तुम्हारी मां को तीन लोगों ने डुमरांव स्टेशन से अगवा कर लिया है। मैंने उसका हाल चाल लेने के लिए फोन किया तो किसी और ने फोन उठाया। यह धमकी दी तुम नहीं सुधरोगे तो तुम्हारी पत्नी की हत्या कर देंगे। यह सुन मैं भागा-भागा डुमरांव थाने पहुंचा। हमारा परिवार आरा में रहता है। वहीं पुलिस ने पूछताछ में पता किया है। कड़सर गांव के विनोद चौधरी और बेचलाल चौधरी के बीच भूमि का विवाद है। जिसका मुकदमा डुमरांव न्यायालय में चल रहा है। यह महिला उसी सिलसिले में यहां आई थी। पुलिस के अनुसार यह अपहरण संदेहास्पद है। लेकिन, जांच की कार्रवाई की जा रही है।