बक्सर खबर। यूपी पुलिस ने डुमरांव में आज बुधवार को अचानक रेड की तो खलबली मच गई। तीन युवकों को गिरफ्तार किया गया। उनके पास से देसी तमंचे भी बरामद हुए। तब लोगों को समझ में आया। जरुर यह कोई बड़ा गेम है। वहां की पुलिस ने सबको गाड़ी में डाला और लेकर चलती बनी। तब तक यह खबर डुमरांव पुलिस को मिली। पूछताछ में पता चला सभी अपराधी हैं। रहने वाले झारखंड के हैं। डुमरांव में किराए पर रहते हैं और यूपी में अपराध की घटनाओं को अंजाम देते हैं। जिसने भी सूना वह दंग रह गया।

बुधवार की दोपहर बाद जब यूपी पुलिस ने पीसी कर मामले की जानकारी मीडिया को दी। तब जाकर पूरी तस्वीर साफ हुई। सूचना के अनुसार यूपी में बलियां जिले के नरही थाना की पुलिस ने नजरा गांव से लोगों को गिरफ्तार किया। पूछताछ में आठ सदस्यीय गिरोह का खुलासा हुआ। जिसके बाद डुमरांव के टेक्सटाइल कालोनी से तीन लोगों को गिरफ्तार किया। जिसकी जानकारी डुमरांव थानाध्यक्ष शिव नरायण राम ने मीडिया को दी। उन्होंने कहा कि यूपी पुलिस जीन लोगों को चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर ले गई। उनके ऊपर अपने थाना क्षेत्र में कोई मामला दर्ज नहीं था। वे सभी डुमरांव टेक्सटाइल कालोनी में वैजनाथ पाठक के मकान में किराए पर रहते थे। नरही थाना एसएचओ तेजबहादुर सिंह ने बताया कि पकड़े गए पांचों आरोपी झारखंड में साहेबगंज जिला स्थित राजमहल थाना के रहने वाले हैं। इनमें मंतोष कुमार सिंह व नितेश कुमार पकड़े गए। फिर उनसे पूरी जानकारी मिली। वैसे तो वे कपड़े बेचने का काम करते थे। लेकिन, उनका काम था, मालदार लोगों का पता लगाना और उनके घर तक का रास्ता समझना देखना। जिसमें डुमरांव में रह रहे कौशल नोनिया, भोला महतो, अर्जुन नोनिया उनके साथी हैं। उन्हीं तीनों को आज वहां से गिरफ्तार किया गया। इनके पास से दो देसी कट्टा व चार गोली के अलावा चोरी का समान भी बरामद हुआ है।