बक्सर खबर। सेवा सबसे बड़ा धर्म है। छठ पर्व के दौरान यह मिसाल धर्म की धरती पर कायम है। छठ त्योहार के दौरान जहां लोग व्रत की तैयारी में जुटे थे। वहीं उनकी सेवा के लिए सैकड़ों की संख्या में लोगों ने श्रमदान किया। तभी तो हर प्रमुख घाट तक साफ-सफाई का बंदोबस्त हो पाया। इस मौके पर अनेक लोगों ने श्रद्धालुओं के लिए तरह-तरह के सेवा शिविर लगाए।

कहीं कोई दूध, आप के पल्ल्व और मिट्टी के बर्तन बांट रहा था। कहीं दवा लेकर स्वयं डाक्टर बैठे थे।गोला घाट पर अनुमंडल कार्यालय के समीप साबित खितमद फांउडेशन के द्वारा स्वास्थ्य शिविर लगाया गया था। डा. दिलसाद अहमद और उनके वालिद साबित रोहतासवी खुद वहां मौजूद थे।

छठ घाटों पर लगे थे शिविर

इसी तरह रामरेखा घाट से लेकर नाथ बाबा घाट पर भी शिविर लगे थे। रेडक्रास के शिविर पर कोषाध्यक्ष सुरेश अग्रवाल और सचिव श्रवण तिवारी आदि मौजूद थे। बगल में ही महर्षि विश्वामित्र पूजा समिति द्वारा सेवा शिविर लगाया गया था। जहां लोगों के लिए पूजा सामग्री और मिट्टी के बर्तन व दूध की व्यवस्था थी।

छठ घाटों पर लगे थे शिविर