बक्सर खबर। जिलाधिकारी राघवेन्द्र सिंह शुक्रवार को अचानक नावानगर प्राथमिकी स्वास्थ्य केन्द्र पहुंच गए। उन्होंने अस्पताल का निरीक्षण किया तो उनकी आंखे खुली रह गई। चिकित्सा प्रभारी समेत, महिला चिकित्सक और अन्य चार कर्मचारी अनुपस्थित मिले। अर्थात अस्पताल के नब्बे फिसदी कर्मचारी लापता। निरीक्षण के दौरान महिला रोगी से उन्होंने बात की। पता चला नास्ते में बिस्कूट मिला है। मिलना क्या चाहिए। यह पूछने पर मौजूद ए एनएम और कर्मचारी माकूल जवाब नहीं दे सके। अस्पताल की हालत देख जिलाधिकारी काफी खफा हुए।

स्वभाव से कड़क जिलाधिकारी राघवेन्द्र सिंह ने जिला मुख्यालय पहुंचने के बाद जिलाधिकारी ने सभी अनुपस्थित लोगों के एक दिन का वेतन कांटने का निर्देश दिया। साथ ही पत्र जारी कर सिविल सर्जन से अनुपस्थित मिली डाक्टर सोनाली कुमारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक, लेखा प्रबंधक, आदेशपाल घनश्याम, अनवर हुसैन अनुसेवक से जवाब तलब करने को कहा है। साथ ही अपने मंतव्य के साथ रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। इसके अलावा अस्पताल में रोगियों को भोजन उपलब्ध कराने वाली एजेंसी का भुगतान बंद रखने का निर्देश भी दिया है।