बक्सर खबर। जरुरी नहीं कि हर विरोध राजनीतिक झंडे के नीचे हो। बगैर किसी शीर्ष नेतृत्व के भारत बंद का असर गुरुवार को जिले में देखा गया। एससी-एसटी एक्ट संशोधन विधेयक को लागू करने के विरोध में यह प्रदर्शन हुआ। सुबह एक साथ खबरें आनी शुरू हुई। गोलंबर जाम, राजपुर रोड़ जाम, डुमरांव जाम युवक सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। हर जगह प्रधानमंत्री के खिलाफ सीधे नारे लग रहे थे।

राजपुर मुख्य मार्ग जाम करते युवा

साथ ही साथ सभी राजनीतिक पार्टियों के खिलाफ भी आवाज बुलंद हो रही थी। जाम की पहली खबर राजपुर इलाके से मिली। कुसुरुपा गांव के पास युवकों ने मुख्य मार्ग को घंटो जाम किया। टायर जलाए और एससी-एसटी एक्ट को संशोधन वापस लो की मांग हो रही थी। हालाकि यह प्रदर्शन दोपहर होते-होते समाप्त हो गया। लेकिन, इससे जन मानस का नुकसान तो हुआ ही।

केसठ में मार्ग जाम करते युवक

केसठ में भी हुआ प्रदर्शन
बक्सर खबर। केसठ के सोनू सिंह ने बक्सर खबर को बताया कि मोदी सरकार द्वारा लाए गए नए अध्यादेश के खिलाफ युवा आक्रोशित थे। केसठ के मीठाइया पुल पर टायर जला आवागमन बंद कर दिया गया था। रंजन सिंह, अभय सिंह, संजय सिंह, रवि सिंह, चुटा, दिनेश, पुतूल सिंह, मुकेश पाल समेत अनेक युवा मौजूद थे। बंद को देखते हुए प्रशासन भी चौकस दिखा।