बक्सर खबर। पूज्य जीयर स्वामी जी का आगमन नावानगर प्रखंड के बसमनपुर गांव में हुआ है। वहां आयोजित सप्ताह ज्ञान यज्ञ में दो मई तक प्रवास करेंगे। 27 से उनकी कथा यहां हो रही है। अपराह्न पांच बजे से हो रही कथा में ग्रामीण प्रवचन का आनंद ले रहे हैं। मंगलवार की कथा के दौरान उन्होंने कहा कि मनुष्य को भ्रम से दूर रहना चाहिए। मानव नाशवान वस्तुओं के प्रभाव में आकर अभिमान करने लगता है। यह उचित नहीं है। मनुष्य का जीवन सबसे उत्तम जीवन है।

इसका हमेशा सार्थक उपयोग होना चाहिए। भागवत कथा इसी भ्रम से मनुष्य को दूर करती है। भ्रम की समाप्ति ही ब्रह्म की प्राप्ति है। व्यक्ति द्वारा धन, पद, वैभव की प्राप्ति करना बड़प्पन नहीं हैं। बल्कि भक्ति, साधना, प्रेम, सदाचारी होना सबसे बड़ा धन है। आचरणहीन व्यक्ति द्वारा अनुष्ठान कर लेने मात्र से उसका शुद्धिकरण नहीं हो जाता। बसमनपुर में आयोजित कथा के दौरान पंचायत मुखिया अजय पांडेय व क्षेत्रिय ग्रामीण मनोयोग से आगत श्रद्धालुओं का स्वागत एवं कथा श्रवण किया जा रहा है। स्थानीय लोगों ने बताया कि स्वामी जी दोपहर बाहर से एक बजे के बीच भक्तों से मिल रहे हैं।