बक्सर खबर। जिला पार्षद बंटी शाही और बक्सर के चर्चित नेता विजय मिश्रा समेत कुल पांच लोगों को भोजपुर की पुलिस तलाश रही है। मामला शाहपुर थाना के बेलौटी निवासी पंकज त्रिपाठी द्वारा दर्ज कराई गयी प्राथमिकी का है। त्रिपाठी ने आरोप लगाया है इन लोगों ने बेलौटी में जमीन से साठ लाख रुपये की मिट्टी एन एच निर्माण के लिए ली। अब राशि का भुगतान नहीं कर रहे हैं। रुपये मांगने पर मारा-पीटा और सादे कागज पर साइन करा लिया। यह मामला जून 2018 का है।

अर्थात लगभग छह माह पहले का। इसकी शिकायत पंकज त्रिपाठी ने 7 जून को न्यायालय में की। इसके सात दिन बाद 14 जून को उसी आधार पर शाहपुर पुलिस ने मुकदमा 176/18 दर्ज कर लिया। इसमें एनएच 84 में काम कर रही पीएनसी इन्फ्राटेक लिमिटेड के प्रबंधक समेत विजय मिश्रा और अरविंद प्रताप उर्फ बंटी शाही को नामजद किया गया। जिसके आधार पर दो दिन पहले शाहपुर की पुलिस ने बक्सर में बंटी शाही के आवास पर छापामारी की। इसके बाद मामला सबके संज्ञान में आया। हांलाकि मुख्य आरोप विजय मिश्रा पर लगा है। इस सिलसिले में जब विजय मिश्रा ने बात हुई तो कुछ और ही मामला सामने आया।
पंकज त्रिपाठी के जमीन से नहीं कटी मिट्टी, मांग चुके हैं रंगदारी : विजय मिश्रा
बक्सर खबर। विजय मिश्रा से जब बक्सर खबर ने संपर्क किया तो उन्होंने कहा सच कुछ और है। बेलौटी गांव के मिट्टी कट रही थी। गांव के कुछ लोग जो आपरधिक किस्म के हैं। वे रंगदारी मांगने आए। एक बार मामला सलट गया। दूसरी बार विवाद बढ़ गया। तब कंपनी के लोगों ने शाहपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उस समय पंकज सामने नहीं आया था। उसके इशारे पर दो युवक ऐसा कर रहे थे। भोजपुर के डीएम संजीव कुमार, तत्कालीन एसपी अवकाश कुमार से शिकायत हुई। उन लोगों ने जगदीशपुर एसडीओ पंकज कुमार को निर्देश दिया। प्रशासन ने उन सभी को नोटिस भेजा। प्राथमिकी का आवेदन भी दिया गया था। तब दोनों तरफ से पंचायती होने लगी। उसी समय पता चला इस पूरे खेल के पीछे पंकज का हाथ है। मजे की बात यह है कि जिन किसानों के खेत से मिट्टी कटी। उसमें पंकज का खेत नहीं है। जिनके खेत से मिट्टी ली गई उनके साथ कंपनी ने एकरारनामा बनाया था। उनको दी गई राशि की पर्ची भी हमारे पास उपलब्ध है। इस सिलसिले में डीएम भोजपुर और पुलिस महानिदेशक बिहार से बात हुई है। उन्होंने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। जब यह प्रकरण हुआ था। उस वक्त अखबारों में भी खबर आई थी। बक्सर खबर ने भी उस घटना की खबर प्रकाशित की थी। उससे नाराज होकर इन लोगों ने साजिश के तहत यह मुकदमा किया है। इसमें शाहपुर की पुलिस ने भी मिलीभगत की है। अगर ऐसा नहीं था तो पूर्व में हमें नोटिस प्राप्त हुई होती। अचानक छापामारी होना। इस बात का सबूत है।

रंगदारों ने बंद कराया एनएच का काम, पढऩे के लिए क्लिक करें 
बक्सर प्रशासन को भी ठग चुका है पंकज
बक्सर खबर। पंकज त्रिपाठी जो शाहपुर थाना के बेलौटी गांव के निवासी हैं। उनका चरित्र अच्छा नहीं है। जिले के ब्रह्मपुर थाने में उनके खिलाफ तीन मुकदमें दर्ज हैं। एक मुकदमा सीओ ब्रह्मपुर ने दर्ज कराया है। पशु मेला की नीलामी लेकर जिला प्रशासन को चूना लगा चुके हैं। प्रशासन को मेले की राजस्व राशि के रुप में जो चेक उन्होंने दिया। वह बैंक में बाउॅस हो गया था। इस मामले में मुकदमा संख्या 76/16 दर्ज है। इसके अलावा ब्रह्मपुर के रहने वाले भरत भूषण सिंह ने भी उनके खिलाफ रंगदारी मांगने का मामला वर्ष 2015 में दर्ज कराया था। जिसका मुकदमा संख्या 52/15 दर्ज है। इसके अलावा ब्रह्मपुर के योगियां गांव में हुई हत्या से भी उनके तार जुड़े होने की बात भी सामने आई है। उसका मुकदमा भी ब्रह्मपुर थाने में ही दर्ज है। वह मामला 2014 का है। उस मुकदमें वे लोग भी नामजद हैं जिन्होंने रंगदारी नहीं देने पर एनएच के काम में व्यवधान पैदा किया था।