डुमरी से डुमरांव का गौरव बना डी. के. कालेज: सभापति

0
539

बक्सर खबरः धरीक्षणा कुंवरी ने 60 वर्ष पूर्व जमीन व धन-दौलत देकर इस संस्था को सींचा है। जो आज डुमरी से डुमरांव का गौरव बना है। उक्त बातें बिहार विधान परिषद के सभापति अवधेष नारायण सिंह ने डी.के कालेज द्वारा आयोजित हीरक जयंती वर्ष समारोह में बतौर अतिथि अपने संबोधन में कही। इस संस्था की प्रतिभा विश्वविद्यालय तक स्थापित है। शाहाबाद ही नहीं बल्कि पूरे देश में इस कालेज के विद्यार्थी अपने प्रतिभा के बल पर परचम लहरा रहे है। उन्होने कहा कि इस महाविद्यालय में लड़कियों की हर सुविधा प्रदान की गई है। इसके साथ हीं इस महाविद्यालय में पठन-पाठन को लेकर व्याख्यताओं की कमी को दूर किया जायेगा। वहीं सदर विधायक संजय कुमार तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने अपने संबोधन मंे कहा कि इस महाविद्यालय के उत्थान के लिए हर विषयों की स्नाकोतर की पढाई शुरू कराने की पहल राज्य सरकार से की जायेगी। उन्होने कहा कि महाविद्यालय में शिक्षा को लेकर किसी भी तरह से उपेक्षित नहीं रखा जायेगा। उन्होने कालेज परिसर में आउटडोर स्टेडियम के निर्माण के लिए राज्य सरकार को अवगत कराने से अवगत कराने की बात कहीं। वक्ताओं में पूर्व कुलपति श्रीराम सिंह, महाराजा मान विजय सिंह, डा. पारसनाथ सिंह, डा. जवाहर जाल, नवीन कुमार ने भी संबोधित किया. कार्यक्रम का शुरूआत मंच पर उपस्थित अतिथियों को कालेज प्राचार्य डा. अनिल कुमार सिंह ने अंग वस्त्र, बुके व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किये। कालेज की छात्रा जूली, अनु, आरती, सत्या ने अतिथियों के स्वागत में स्वागत गान प्रस्तुत किया. इसके बाद संकल्प पुस्तिका का विमोचन हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता कालेज प्राचार्य डाक्टर अनिल कुमार सिंह और संचालन डा. शिरोमणि सिंह ने किया। जबकि धन्यवाद ज्ञापन डा. उषा रानी ने किया। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह, धीरेन्द्र सिंह, अरविंद सिंह, राजू मोची, रेवती रमण मिश्रा, मनोज कुमार सिंह, विशाल कुमार दूबे, श्रीभगवान सिंह, बबलू चंदन, चिंटू सिंह, अभिमन्यू सिंह, विकास कुमार सहित कालेज के शिक्षणगण व शिक्षककर्मी मौजूद रहें।