बक्सर खबर : शहर के लोग अब सजग हो रहे हैं। गांव वाले तो पहले से ही संस्कार से परिपूर्ण हैं। इसका प्रभाव रविवार को गंगा दशहरा पर जिला मुख्यालय के गंगा घाटों पर देखने को मिला। सुबह से ही गंगा स्नान का प्रारंभ हुआ सिलसिला देर शाम तक चला। शहर के दो घाटों पर शाम में गंगा आरती का विहंगम नजारा देखने को मिला। गंगा सेवा समिति व ट्रस्ट द्वारा रामरेखा घाट पर शाम साढ़े छह बजे भव्य आरती समारोह का आयोजन हुआ।

सदर एसडीओ गौतम कुमार से लेकर सामाजिक सरोकार से ओतप्रोत सैकड़ों की संख्या में राजनीतिक व सामाजिक कार्यकर्ता इसमें शामिल हुए। बहुत ही मनोरम ढंग से रामरेखा घाट के विवाह मंडप और घाट को दीपों से सजाया गया। प्रभंजन भारद्वाज जी की यह पहल बहुत ही सराहनीय है। यह परंपरा अब धीरे-धीरे लोगों को रास आने लगी है। इस अलौकिक नजारे को देखने के लिए सैकड़ों की तादात में श्रद्धालु भी गंगा घाट पर नजर आए।

लक्ष्मी-नारायण घाट का नजारा

ऐसा ही नजारा चरित्रवन के लक्ष्मी-नारायण घाट पर देखने को मिला। वहां भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्तगंगा आरती में शामिल हुए। पूज्य त्रिदंणी स्वामी जी महाराज समाधी स्थल के महंत अयोध्या नाथ स्वामी जी की पावन उपस्थिति में गंगा पूजन और आरती का विधिवत आयोजन हुआ। यहां पूज्य जीयर स्वामी जी के परिकर रजनीकांत पांडेय, मुन्ना राय, अखिलेश दूबे जैसे परम अनुआई भक्त गंगा आरती में शामिल हुए।

लक्ष्मी-नारायण घाट पर उपस्थित अयोध्या नाथ स्वामी