बक्सर खबरः जिले में एक बार फिर चोटी कटने का मामला प्रकाश में आया है। घटना सोमवार देर रात कोरानसराय थाना क्षेत्र के कमरधरपुर गांव की है। जहां रूकसाना खातुन (18) पिता अकबर मिंया घर में सो रही थी। मंगलवार सुबह 6:00 बजे जगी तो देखा की उसकी चोटी बिस्तर गिरी है। यह देख दहाड़ मारते हुए बेहोश हो गई। बेटी कि चित्कार सुनकर माता मैरू निशा दौड़ते हुए बेटी के पास पहुंची। उसकी यह हालत देख परिवार वाले चिखने लगे।

कुछ ही पल में परिवार सहित आस-पड़ोस में हाहाकार मच गया। पीड़ित छात्रा को बेहोशी की हालत में पास के गांव स्थित निजी अस्पताल ले जाया गया। इलाज के बाद होश आया। परन्तु डरी सहमी रूकसाना को परिजन तांत्रिक के पास ले गए। ज्ञात हो कि हरियाण के गांवों से निकला चोटी कटवा भूत दिल्ली, यूपी होते हुए बिहार के बक्सर में भय कायम करने में सफल हो रहा है।

हाथ में कटी चोटी लिए अकबर , जुटे ग्रामीण

दूसरी घटना भरियार ओपी थाना क्षेत्र के चक्की लक्ष्मण डेरा की है। यहा एक महिला तथा एक युवती चोटीकटवा की शिकार हुई है। चोटी कटवा की शिकार महिला बड़की देवी मनोज बिंद की पत्नी है। युवती लक्ष्मण डेरा के ही लक्ष्मण पासवान की पुत्री विभा कुमारी उम्र 17 वर्ष है। घटना के बाद दोनों इतनी नर्वस थी कि चक्की पीएचसी में ईलाज कराया गया। इन घटनाओं से गांव तथा आस पास के इलाके में भय तथा दहशत का माहौल कायम है। खासकर महिलाएं तथा लड़कियां एक अनजाने भय से सहम गई है। गौरतलब है कि तीन दिन पूर्व डुमरांव दक्षिण टोला निवासी पे्रमचंद राय की पुत्री सिमरन भी चोटी कटवा की शिकार हुई थी। दिल्ली, हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश के बाद अब बिहार के सीमावर्ती इलाके में बढ़ रही इस घटना से लोगों की चिंता बढ़ गई है। हालांकि प्रशासन द्वारा अभी तक इसे अफवाह ही माना जा रहा है। बहरहाल चोटी कटवा की घटना के तेजी से फैलने से कई तरह की चर्चाएं व्याप्त है।

चक्की में चोटी कटवा की शिकार युवती